Surya Namaskar: कैसे करते हैं सूर्य नमस्कार? क्या हैं सूर्य नमस्कार के फायदे

Surya Namaskar

Surya Namaskar– आज की भाग दौड़ भरी जीवनशैली में शारीरिक और मानसिक शांति के लिए योग करना अति आवश्यक है. दिन भर डेस्क पर बैठे रहकर कम करने से कई शारीरिक और मानसिक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन इसमें योग आपकी सहायता कर सकता है, पर लोगों के पास योग करने या Exercise करने का अब समय नहीं रहता है. इसलिए जो लोग कठोर व्यायाम नहीं कर पाते हैं उन्हें सलाह दी जाती है कि कम से कम सूर्य नमस्कार अवश्य करें. इससे न केवल आपका समय कम लगेगा बल्कि शरीर के साथ साथ मन को भी शांति मिलेगी।

क्या है Surya Namaskar

‘सूर्य नमस्कार’ का शाब्दिक अर्थ सूर्य को अर्पण या नमस्कार करना है। यह योग आसन शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका है। सूर्य नमस्कार 12 शक्तिशाली योग आसनों का एक समन्वय है, जो एक उत्तम कार्डियो-वॅस्क्युलर व्यायाम भी है और स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है।

अच्छे स्वास्थ्य के अतिरिक्त सूर्य-नमस्कार धरती पर जीवन के संरक्षण के लिए हमें सूर्य के प्रति आभार प्रकट करने का अवसर भी देता है। सूर्य-नमस्कार मन व शरीर दोनों को तंदुरुस्त रखता है। इसके लिए आपको रोज बस 10 मिनट का समय निकालना है। हालांकि इसे सुबह सूर्योदय के समय करने की कोशिश करें और हमेशा खाली पेट करें।

कैसे करते हैं सूर्य नमस्कार

प्रत्येक सूर्य-नमस्कार के चरण में 12 आसनों के दो क्रम होते हैं। जब हम 12 योगासनो के सूर्य नमस्कार का एक क्रम पूर्ण करते हैं और सूर्य-नमस्कार के एक क्रम के दूसरे क्रम में जाते हैं तो हमे योग आसनों का वाही क्रम दोहराना होता है, केवल दाहिने पैर के स्थान पर बाएँ पैर का प्रयोग करना होगा। सूर्य-नमस्कार हालाँकि कई तरीके से किये जाते हैं पर बेहतर यही होगा कि आप किसी एक ही प्रारूप का अनुसरण करें और उसी के अनुसार नियमित रूप से अभ्यास करें.

सूर्य नमस्कार के 12 योगासन

Soory Namaskar

  1. प्रणाम आसन
  2. हस्तउत्तानासन
  3. हस्तपाद आसन
  4. अश्व संचालन आसन
  5. दंडासन
  6. अष्टांग नमस्कार
  7. भुजंग आसन
  8. पर्वत आसन
  9. अश्वसंचालन आसन
  10. हस्तपाद आसन
  11. हस्तउत्थान आसन
  12. ताड़ासन

सूर्य नमस्कार के फायदे

सूर्य-नमस्कार करने से हमारी पूरी बॉडी का पोस्चर बेहतर होता है। इससे हमारी मांसपेशियों के लिए फायदेमंद होता है। इससे स्पाइन पेन, गर्दन दर्द और पीठ दर्द से भी राहत मिलता है। साथ ही रोज सूर्य-नमस्कार करने से हमारा माइंड रिलैक्स करता है और तनाव भी कम होता है। इसके साथ ही इससे इन्सोमनिया की समस्या से भी राहत मिलती है।

ये भी पढ़ें– सूर्य नमस्कार क्या है? सूर्य नमस्कार के फायदे

सूर्य नमस्कार करना हमारे ह्रदय की सेहत के लिए लाभदायक हो सकता है। सूर्य-नमस्कार करने से ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है। इससे ह्रदय की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और ब्लड पंप बेहतर तरीके से हो पाता है. सूर्य-नमस्कार करने से शरीर का एक्सट्रा फैट बर्न होता है और हेल्दी वजन मेंटेन करने में मदद मिलती है। इसे करने से पाचन क्रिया भी बेहतर होती है

ये भी पढ़ें– सबसे नई शास्त्रीय भाषा- फारसी होगी देश की 9वीं शास्त्रीय भाषा, मिलीं 3 नई शास्त्रीय भाषाएं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top