Happy Birthday Google! 25 साल का हुआ Google, जानिए 25 साल पहले कैसे हुई थी Google की शुरुवात

Happy Birthday Google

Happy Birthday Google: स्वागत है आपका ज्ञान दुनिया पर. आज हम यहाँ गूगल के 25 वर्षों के इतिहास और सफ़र के बारे में जानेंगे. 27 सितंबर को गूगल अपना 25वां जन्मदिन मना रहा है, जो इसके लिए बहुत खास है। इस जरूरी पल को और बेहतर बनाने के लिए कंपनी ने आज का Doodle भी इस दिन के नाम कर दिया है।  Google का यह Doodle कंपनी के 25 सालों की मेहनत और उतार चढ़ाव को दर्शाता है। भले ही आज गूगल बड़ी सफलता को हासिल कर रहा है , लेकिन इसका लंबा सफर हमेशा यादगार रहेगा,

इंटरनेट सर्च इंजन के तौर पर गूगल आज दुनिया का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है. व्यक्ति को जब भी किसी बारे में जानकारी लेने की जरूरत होती है तो गूगल के जरिए ही सर्च करते हैं. गूगल के पास लगभग हर सवाल का जवाब मिल जाता है.

गूगल ने अपने ब्लॉग में लिखा, “आज का डूडल गूगल के 25वें वर्ष का जश्न मना रहा है. और यहां गूगल में हम भविष्य की ओर उन्मुख हैं, जन्मदिन भी प्रतिबिंबित करने का समय हो सकता है. साथ ही कंपनी ने इस बात पर जोर दिया कि 1998 के बाद से बहुत कुछ बदल गया है, लेकिन यह भी कहा कि उसका मिशन एक ही है – “दुनिया की जानकारी को व्यवस्थित करना और इसे सार्वभौमिक रूप से सुलभ और उपयोगी बनाना”. “पिछले 25 वर्षों में हमारे साथ विकसित होने” के लिए यूजर्स को धन्यवाद देते हुए, Google ने कहा, “हम यह देखने के लिए इंतजार नहीं कर सकते कि भविष्य हमें एक साथ कहां ले जाता है”

आइये जानते हैं कैसे 25 साल पहले एक सर्च इंजन के रूप में इसकी शुरुवात हुई थी? साथ ही इसके Google नाम से रजिस्टर्ड होने की पीछे की रोचक कहानी भी जानेंगे.

Google के Founder कौन हैं?

अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पीएचडी कर रहे दो छात्रों लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने मिलकर google को एक सर्च इंजन के रूप में बनाया था. इन दोनों ने 4 सितंबर 1998 को Google Inc की शुरुआत की थी. हालांकि तब उन्होंने इसे BackRub के नाम से शुरू किया था. सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज, जो वर्ल्ड वाइड वेब को आसान और बेहतर बनाना चाहते थे, अपने हॉस्टल रूम में दोनों छात्रों ने एक नए और बेहतर सर्च इंजन के प्रोटोटाइप पर काम करना शुरू कर दिया था.  उन्होंने अपना पहला ऑफिस एक किराए के गैराज में शुरू किया था.

Google Inc की शुरुवात हालांकि 4 Sep 1998 को हुई थी परन्तु 27 Sep को एक रिकॉर्ड स्तर पर सर्च पेजेज Add किये जाने के कारण कंपनी अपना बर्थडे 27 Sep को ही मनाती है.

BackRub का नाम Google कैसे पड़ा

गूगल सर्च इंजन का नाम वास्तव में Google पड़ने के पीछे भी एक रोचक कहानी है. दरअसल सर्च इंजन को बनाते समय इसका नाम बैकरब (BackRub) रखा गया था. लेकिन जब कंपनी को रजिस्‍टर करने की बात आयी, तो दोनों ने डिसाइड किया कि इस कंपनी को GOOGOL नाम से रजिस्‍टर करवाएंगे. लेकिन रजिस्‍टर करते समय स्‍पेलिंग में गलती होने के कारण इसका नाम GOOGOL की जगह Google हो गया. गूगल शब्‍द बोलने, लिखने में काफी आसान था. इसलिए ये बहुत आसानी से लोगों की जुबां पर चढ़ गया. आज के समय में गूगल इतना अधिक पॉपुलर हो गया है कि लोग अगर इंटनेट पर कुछ सर्च करने का बात भी करते हैं, तो कह देते हैं गूगल कर लो.

Trend कर रहा Happy Birthday Google

गूगल के 25 साल पुरे होने पर अनेक सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर Happy Birthday Google ट्रेंड कर रहा है, चाहे ट्विटर पर देख लिया जाये या google के ही सर्च ट्रेंड्स में. गूगल के वर्तमान CEO सुन्दर पिचई ने भी X (ट्विटर) पर लिखा, “Happy 25th birthday @Google! Thanks to everyone who uses our products and challenges us to keep innovating and to all Googlers!”

सुंदर पिचई ने पिछले महीने कंपनी के जन्मदिन को ध्यान में रखते हुए एक नोट लिखा था. उन्होंने कंपनी की यात्रा, प्रौद्योगिकी परिवर्तन में इसकी भूमिका और भविष्य की राह पर नज़र डाली. उन्होंने Google की सफलता का हिस्सा रहे यूजर्स, कर्मचारियों और भागीदारों के प्रति आभार व्यक्त किया. उन्होंने नवप्रवर्तन की निरंतर चुनौती और अतीत और वर्तमान गूगलर्स के समर्पण की भी सराहना की अपने नोट में, पिचाई ने नवाचार और अनुकूलन के महत्व पर भी प्रकाश डाला.

उन्होंने स्वीकार किया कि जिसे कभी असाधारण तकनीक के रूप में देखा जाता था वह तेजी से सामान्य हो गई क्योंकि इसके लिए कड़ी मेहनत की गई.

 

Google की अन्य Services: Gmail, YouTube, Map, Drive etc.

Google की स्थापना हालांकि एक सर्च इंजन के रूप में हुई थी. परन्तु आज गूगल को सिर्फ सर्च इंजन के तौर पर ही नहीं जाना जाता, बल्कि ये तमाम अन्‍य सर्विसेज भी उपलब्‍ध कराता है. आज Gmail के रूप में गूगल के पास दुनिया की सबसे बड़ी मेलिंग सर्विस में से एक है. इसके अलावा YouTube दुनिया का सबसे बड़ा वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म है, वो भी गूगल का ही हिस्सा है. गूगल मैप, गूगल ड्राइव, गूगल न्यूज़, G-Translate, गूगल मीट यहां त‍क कि स्मार्टफोन चलाने के लिए इस्तेमाल होने वाला Operating System Android OS भी गूगल का है.

कंपनी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेक्टर में भी तेजी से आगे बढ़ रही है. टेक फर्म ने Google Bard AI लॉन्च किया है, जो एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड चैटबॉट सर्विस है. इसे ChatGPT के Competitor के रूप में launch किया गया है. अमेरिका की दिग्गज टेक कंपनी Alphabet वर्तमान समय में गूगल की मालिक है.

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top